Friday, 6 May 2011

प्लीज... इस कविता को पूरा कीजिए..


जी, हां मुझे आपकी मदद चाहिए। मैं आगे नहीं सोच पा रहा हूं। मैं चाहता हूं आप सभी मित्रों की मदद से इसे आगे बढ़ाऊं। मुझे भरोसा के आप सभी मित्र कम से कम दो दो लाइन जरूर सुझाएंगे।



कौन सुनेगा कविता मेरी,

किसको है अवकाश।

चला जा रहा हूं धरती पर,

देख रहा आकाश ।



0







0







0



आपके सहयोग की अपेक्षा है।

17 comments:

  1. मेरे शब्द बनेगें संबल
    मुझको है विश्वास

    inhen kahin fit karke dekhen.... :) bas ek koshish hai...

    ReplyDelete
  2. धरती नही है कद्रदानो से खाली,
    तुम किये जाओ प्रयास ।
    चांद तारे भी देगे वाहवाही,
    कह रहा है आकाश ।

    ReplyDelete
  3. भावों की भूमि है सूखी
    ह्रदय -कामना वास ,
    भौतिकता के युग में
    क्या कविता ले ले संन्यास ?

    ReplyDelete
  4. mahendr ji aapke blog ka ullekh ''ye blog achchha laga par kiya hai .is blog ka url -''http://yeblogachchhalaga.blogspot.com''hai .aap aaye aur hamara utsahvardhan karen .

    ReplyDelete
  5. कविता पूरी होगी तेरी
    इतना है विश्वास
    धरती जब पांव हैं तेरे
    होना मत निराश।

    ReplyDelete
  6. कौन सुनेगा कविता मेरी,
    किसको है अवकाश।
    चला जा रहा हूं धरती पर,
    देख रहा आकाश ।
    देख रहा आकाश,
    पाश में बँधा हुआ मन ।
    स्वच्छ कभी हो काश,
    धूल में सना हुआ तन ॥

    ReplyDelete
  7. aadarniy mahendra ji
    bahut hi achhi kavita hai.lekin pura karne ke liye
    thoda sa waqt chahiye.
    vaise aur bhi jin blogrs bandhuvo ne aapko i kaviya ko purn karke bataya hai vah sabhi kabile tarrif hain
    bahut bahut badhai
    poonam

    ReplyDelete
  8. व्याकुल ह्रदय में उमग रहा है,
    जीवन का उल्लास.
    कर्म पथ पर आगे बढ़कर,
    पूरी होगी आस.

    ReplyDelete
  9. सब जग में अपने लगते मुझे
    फिर किसे कह दूँ अपना ख़ास
    अपनों के बीच भी अक्सर मन
    जाने क्यों हो जाता है उदास!

    ReplyDelete
  10. sabhi vicharo ke saath main bhi hoon ,mujhe to char line hi khoobsurat lagi

    ReplyDelete
  11. मुझे सुनाओ कविता अपनी ,
    जो आये मन को रास ,
    आँखों को नम कर दे और
    बुझा दे दिल की प्यास।

    ReplyDelete
  12. जाने क्या बात हुई है
    ना चिठ्ठी ना सन्देश
    रूठ गया मन का मीत
    कुछ तो बात हुई है खास

    ReplyDelete
  13. कौन सुनेगा कविता मेरी,

    किसको है अवकाश।

    चला जा रहा हूं धरती पर,

    देख रहा आकाश ।

    कविता तेरी पूरी होगी
    महेंद्र श्रीवास्तव शाबाश

    मजाक कर रहा हूं। अन्य ब्लागर वंधुओं ने बहुत अच्छे सुझाव दिए हैं। सबको मिला लेंगे तो पूरी किताब भी बन सकती है।

    ReplyDelete
  14. सार्थक और भावप्रवण रचना।

    ReplyDelete
  15. कौन सुनेगा कविता मेरी,

    किसको है अवकाश।

    चला जा रहा हूं धरती पर,

    देख रहा आकाश ।


    मन के आँगन बैठी
    गौरैया है निराश
    तोडा किसने घोसला
    किसने किया उदास !

    आसमान में पसरा है
    स्याह अँधेरा आसपास
    लग रहा है इनदिनों
    चंदा है अवकाश

    जुगनू देखो झिलमिल करते
    पथ करते प्रकाश
    कविता कर्म ना तजना तुम
    जीवन भरते ये आस


    चला जा रहा हूं धरती पर,
    देख रहा आकाश
    बसी ह्रदय में प्राण उसका
    कैसे लू सन्यास

    ReplyDelete
  16. श्री गोपाल जी,शिखा जी, मनोज जी, भाई किलर, शालिनी जी,कविता रावत जी, डा.दिव्या जी,सुमन जी क्या कहूं। शब्द नहीं है, आप लोगों के सहयोग का।
    श्री अरुण जी सच कहूं तो अब इस कविता पर मेरा कोई हक ही नहीं रहा। ये आपकी हो गई अब। बहुत सुंदर

    ReplyDelete

जी, अब बारी है अपनी प्रतिक्रिया देने की। वैसे तो आप खुद इस बात को जानते हैं, लेकिन फिर भी निवेदन करना चाहता हूं कि प्रतिक्रिया संयत और मर्यादित भाषा में हो तो मुझे खुशी होगी।