Sunday, 4 August 2013

बड़ी बहस : क्रिकेट का काठमांडू सम्मान !


ये तो आप भी मानते ही होंगे कि पाप का घड़ा एक ना एक दिन भरता जरूर है। अब क्या मेरी तरह आप भी विश्वास के साथ ये बात कह सकते हैं कि बीसीसीआई के हाशिए पर डाल दिए गए अध्यक्ष श्रीनिवासन के पाप का घड़ा भर गया है ? देखा जाए तो पहली नजर में तो यही लगता है। उनके चेहरे पर जो अहंकार दिखाई देता था, कल दिल्ली में बेचारगी दिखाई दे रही थी। देखने से ही लग रहा था कि वो अपने और दामाद के किए पर शर्मिंदा हैं, लेकिन आप जानते ही हैं कि रस्सी जल भी जाए तो उसकी ऐंठन नहीं जाती। लिहाजा उन्हें लगा कि हो सकता है कि उनकी दादागिरी जिस तरह अभी तक चलती रही है, शायद उनके रुतबे के आगे सब बौने हो जाएं और अध्यक्ष की कुर्सी पर फिर जम जाएं। पर प्यारे श्रीनिवासन आगे से जब दिल्ली आओ, तो एक बार यहां के लोगों से राय ले लिया करो, फायदे में रहोगे। ये दिल्ली है, कुर्सी किसी को आसानी से नहीं देती, हां यही बैठक अगर आप काठमांडू में कर लेते तो कोई पूछने ही वाला नहीं था। जिसको जैसे चाहते बेवकूफ बनाते, सब आपके सामने सिर झुकाए खड़े रहते। लगता है कि आप सोशल मीडिया से दूर है, वरना आपको काठमांडू के बारे में सबकुछ पता होता।

खेल के बारे में जब भी कुछ चर्चा करता हूं तो डर लगता है। मुझे लगता है कि पता नहीं आप लोगों को इसके बारे में कितना पता है। चलिए फिर भी दो चार बातें फटाफट बता देते है, उसके बाद असल मुद्दे पर चर्चा करेंगे। दरअसल बीसीसीआई ने आईपीएल के बारे में जो " रुल बुक " तैयार किया है उसमें साफ है कि अगर आईपीएल की किसी भी टीम के प्रबंधन से जुड़ा आदमी अनैतिक कार्य करता है, तो उस टीम को डिबार यानि अयोग्य़ घोषित कर दिया जाएगा। आपको जानते ही है कि चेन्नई सुपर किंग के मालिकों में श्रीनिवासन के अलावा उनका दामाद मयप्पन भी शामिल है, जबकि राजस्थान रायल्स में शिल्पा के पति राजकुंद्रा है। इन दोनों पर सट्टेबाजी के गंभीर आरोप हैं। राजस्थान टीम के तो कई खिलाड़ी और भी गंभीर हरकतों में पकड़े जाने पर जेल तक की हवा खा चुके हैं। लेकिन बड़ा सवाल ये है कि आखिर चेन्नई और राजस्थान की टीमों को अभी तक अयोग्य़ घोषित क्यों नहीं किया गया ? आपको पता है कि श्रीनिवासन बीसीसीआई के अध्यक्ष भी रहे हैं और उनकी टीम भी है। इसलिए उनके बारे में नियम कायदे की बात करना बेमानी है। मीडिया ने जब उनके दामाद मयप्पन, राजस्थान रायल्स के राजकुंद्रा के साथ बिंदू दारा सिंह की हरकतों के बारे में खबरें दिखाई तो कई हफ्तों के ड्रामें के बाद श्रीनिवासन बीसीसीआई से अलग होने को मजबूर गए। इतना ही नहीं जल्दबाजी में दो सदस्यों की एक कमेटी बना दी गई। इस कमेटी ने जांच कर अपनी  रिपोर्ट में श्रीनिवासन को क्लीन चिट्ट दे दी। लेकिन मुंबई हाईकोर्ट ने जांच कमेटी को ही अवैध बताकर उसकी रिपोर्ट खारिज कर दी।

इन सबके बाद भी श्रीनिवासन " मैं हूं डान " की स्टाइल में कुर्सी पर कब्जा करने की जुगत बैठाने लगे। अध्यक्ष का ख्वाब मन पाले हुए बेचारे दिल्ली तो आ धमके, लेकिन वो जिन लोगों के बूते दिल्ली आए थे, यहां उन्हीं लोगों ने उनकी खूब बजाई। बैठक के दौरान उनके खास लोगों ने ही उन्हें डराया धमकाया और कहाकि अब पूरा मामला कोर्ट में है। कोर्ट बीसीसीआई की हर गतिविधियों पर कड़ी नजर बनाए हुए है, लिहाजा ऐसा कुछ नहीं किया जाना चाहिए जिससे कोर्ट में अपना केस कमजोर हो। श्रीनिवासन चाहते थे कि वो ही इस मीटिंग की अध्यक्षता करें। जब उन्हें बताया गया कि इस होटल में तो आप कुछ भी कर सकते हैं, लेकिन कोर्ट ने अगर अपना रुख कड़ा कर लिया तो इसके बाद क्या होगा ? बताते हैं कि जो तस्वीर उनके सामने रखी गई, बेचारे श्रीनिवासन हिल गए। अब सोचा जाने लगा कि बाहर मीडिया वाले खड़े हैं, उन्हें क्या बताया जाए ? कहा गया कि वो कौन सा हमें नंबर देने वाले हैं, कुछ भी बता दो। बस मीटिंग रद्द हो गई और कहा गया कि मीटिंग का एंजेंडा ही तैयार नहीं था। ये सुनकर आपको भी हंसी आ रही होगी, हमें तो खैर आ ही रही है।

आइये एक मिनट सीरियस बात कर लें, आपको ये पता है कि देश में क्रिकेट के अलावा बाकी खेलों में उन्ही खिलाड़ियों को राष्ट्रीय सम्मान मिल सकता है, जिस खेल के महासंघ को भारत सरकार के खेल मंत्रालय से मान्यता मिली हुई है। मसलन कुश्ती, दौड़, टेबिल टेनिस, हाकी, टेनिस, तैराकी, बैडमिंटन कोई भी खेल हो, इससे से जुड़े महासंघ को अगर खेल मंत्रालय की मान्यता नहीं है तो कितना बढ़िया खिलाड़ी हो या फिर कितने ही पदक ही क्यों ना जीता हो, उसे सरकार मान्यता नहीं देती है, और ऐसे खिलाड़ी को कभी राष्ट्रीय सम्मान नहीं मिल सकता। मतबल ऐसे खिलाड़ी को पद्मश्री, पद्मभूषण या अन्य किसी भी सम्मान से नही नवाजा जा सकता है। लेकिन देश में क्रिकेट को लोग धर्म मानते हैं और सचिन जैसे खिलाड़ी को भगवान। यही वजह है कि सरकार के क्रिकेट के मामले में सारे नियम कायदे किनारे रह जाते हैं। यहां बीसीसीआई जो पैसे वालों का एक गिरोह है, वो जो भी चाहे कर सकती है। आज तक बीसीसीआई को खेल मंत्रालय की मान्यता नहीं है, पर तमाम क्रिकेटर को पद्मश्री और पद्मभूषण सम्मान मिल चुके हैं। अब तो बात इससे भी आगे की हो रही है है, वो ये कि क्रिकेटर को भारत रत्न दिए जाएं। हाहाहाहा.... आपने शोले पिक्चर देखी होगी, एक डायलाँग है ना, बसंती इन कुत्तों के सामने मत नाचना। मुझे भी लगता है कि अगर बीसीसीआई खेल मंत्रालय की मान्यता नहीं लेती है तो क्रिकेटरों को भी राष्ट्रीय सम्मान से वंचित कर दिया जाना चाहिए।

सच कहूं तो बीसीसीआई और क्रिकेटरों ने राष्ट्रीय सम्मान को काठमांडू सम्मान बना दिया है। मसलन कोई नियम कायदा नहीं। सम्मान किसको दिया जाएगा, सम्मान देने की प्रक्रिया क्या होगी, सम्मान के लिेए योग्यता क्या होगी, सम्मान के लिए निर्णयाक मंडल मे कौन होगा, कुछ भी से तय नहीं होगा। बस 4100 रुपये दो और सम्मान की पूरी प्रक्रिया इसी से पूरी हो जाएगी। मेरा मानना है कि ऐसे सम्मान खेल में तो नहीं बस ब्लाग में दिए जा सकते हैं। चलिए अंदर की बात बताते हैं। मेरे पिछले पोस्ट से ब्लाग परिवार में थोड़ी खलबली जरूर मची। वैसे एक बार आंख खोलने से आयोजकों की आंख खुल जाएंगी, अगर ऐसा कोई भी सोचता है तो मैं तो उसे 24 कैरेट का मूर्ख समझूंगा। लेकिन थोड़ा बहुत सुधार होगा, ये मुझे जरूर उम्मीद थी। काठमांडू सम्मान में भी थोडा बदलाव आया है। दो दिन पहले जिन नए आठ - दस नए लोगों का नाम सम्मान के लिए घोषित किया गया है। इसमें पहली बार ये बताने की कोशिश की गई है कि उन्हें किस क्षेत्र में सम्मान दिया जा रहा है। इसके पहले जो नाम थे, उन्हें तो यही लग रहा था कि ये 4100 रुपये का सम्मान है।

ये बात मैं इसलिए कह रहा हूं क्योंकि एक ब्लागर ने स्वीकार किया कि उसे नहीं पता कि ये 5100 रुपये मुझे क्यों दिए जा रहे हैं। बस मैं इतना कहूंगा कि हां मुझे काठमांडू में 5100 रुपये दिए जा रहे हैं। रुपयों के साथ ही कुछ कपड़े वपडे भी दिए जाने का वादा किया गया है। अब प्राइमरी स्कूल के बच्चों से भी पूछा जाए कि अगर 4100 रुपये खर्च करने पर 5100 रुपये हासिल होते हैं तो 4100 रुपये खर्च करने चाहिए या नहीं ? बच्चे का जवाब होगा कि बिल्कुल खर्च करना चाहिए। अब भाई लोग भले ही ये कहें कि सम्मान की पैसे से तुलना नहीं करनी चाहिए, लेकिन सच यही है कि पूरा मामला ही पैसे का है। वरना सम्मान के लिए ब्लागरों को लुभाने के लिए नई स्कीम ना जारी की गई होती।  जानते हैं अब नए सम्मान की जो सूची जारी की गई है, उसमें एक बदलाव देखा गया है। कहा जा रहा है कि तमाम कपड़े - वपड़े के साथ ही एक निश्चित धनराशि भी दी जाएगी। मुझे लगता है कि ये स्कीम इसलिए घोषित करनी पड़ी क्योंकि लोगों को पता चल गया कि भारतीय रुपये की कीमत नेपाल मे ज्यादा है। बहरहाम मुझे इस बात की खुशी है कि अब मेरे ब्लागर मित्रों को जो बेचारे पैसे जमा कर फंस गए हैं, उन्हें कुछ तो राहत मिलेगी ।  

आप भी जानते हैं कि आयोजक आसानी से सही रास्ते पर आएंगे,  इसकी तो किसी को उम्मीद नहीं है। लेकिन सामाजिक न्याय का यही तकाजा है कि एक ना एक दिन पाप का घड़ा भरता ही है। ऐसे में हम सब को भी इनके पाप के घड़े को भरने तक का इंतजार करना ही होगा। लेकिन मैं देख रहा हूं कि जिन लोगों का नाम सम्मान के लिए घोषित किया गया है, अब वो बेचारे जरूर सकते में हैं। सब एक बार सोचने पर मजबूर हो गए हैं कि कहीं वो वाकई ठगे तो नहीं जा रहे हैं ? 4100 रुपये कोई छोटी रकम तो है नहीं, ऊपर से काठमांडू पहुंचने का किराया भाड़ा अलग ! अब ये भी एक दूसरे से बात कर पूछ रहे हैं कि "आखिर मुझे ही सम्मानित क्यों किया जा रहा है ? ये बात ब्लागर सोचने को मजबूर है, क्योंकि उन्हें भी लग रहा है कि हमने ऐसा कोई तीर भी नहीं मार लिया कि सम्मानित होने के लिए मेरा पहला हक बनता हो ? ऐसा नही है कि इस सम्मान से सब पीछा ही छुड़ा रहे हों, कुछ लोग इस सम्मान के चक्कर में जगह-जगह प्रशंसा में खूब कमेंट कर रहे हैं, जिससे आयोजको का ध्यान उन पर भी जाए। मैं ऐसे लोगों को बता दूं कि घबराने की जरूरत नहीं है, जल्दी ही आयोजक ऐलान कर सकते हैं कि सम्मान के लिए 4100 रुपये के साथ अपना नाम खुद सूची में शामिल कर लें। चलिए ये तो ऐसा  मुद्दा है कि कभी खत्म ही नहीं होगा। इस पर तो लंबी बात चलती ही रहेगी, लेकिन मुझे इस बात की खुशी है कि कम से कम अब जितने भी लोग सम्मानित होंगे, उन्हें कुछ कम ही सही लेकिन रकम तो मिलेगी ना। चलते चलते एक बात बताऊं, अब लखनऊ में यही तय नहीं हो पा रहा है कि ब्लागर को किस कटेगरी में सम्मानित किया जाए ? चूंकि इतने ज्यादा  सम्मान है कि कटेगरी कम पड़ गई है। मित्रों ये बात आगे भी जारी रहेगी।





  

40 comments:

  1. Replies
    1. बुराई के खिलाफ छोटी सी पहल

      Delete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज रविवार (04-08-2013) के दादू सब ही गुरु किए, पसु पंखी बनराइ : चर्चा मंच 1327
    में मयंक का कोना
    पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. bahut rochak dhang se prastut ki gai aankh kholne valaa aalekh !

    ReplyDelete
  4. बढ़िया है ..आगे भी ये बात जारी रखिये..

    ReplyDelete
  5. सौ बातों की एक बात .....भारत देश में ऐसे ही निर्मल बाबा जैसे लोगों की चांदी नहीं होती,कुछ तो 'अनूठा' है ही यहाँ.

    आवाज़ करने [उठाने ] से कुछ फर्क पड़ता ही है इसी सिद्धांत के चलते मुम्बई में लड़कियों ने छेड़े जाने पर सीटी बजाने का कार्यक्रम चलाया है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा आपने..
      मैं बुराई खत्म कर दूंगा, ऐसा मैं नहीं सोचता।
      बस वहां तक संदेश जाना चाहिए कि लोग आपका
      असली चेहरा जानते हैं।

      Delete
  6. बढ़िया ! वैसे सम्मान के लिए जिन नामों की घोषणा की गयी है उनको देखकर शक तो जरुर होता है !!

    ReplyDelete
  7. महेंद्र भाई, तीन साल पहले ये कविता लिखी थी-

    समारोह में किसी का सम्मान हो गया है,

    क्या आदमी वाकई इनसान हो गया है...
    सिर पर पत्थर उठाता है बबुआ,
    क्या बचपन सच में जवान हो गया है...
    क्या आदमी वाकई इनसान हो गया है...
    बूढ़े बाप का ख़ून जलाता है बेटा,
    क्या सही में लायक संतान हो गया है...
    क्या आदमी वाकई इनसान हो गया है...
    नारी है आज इस देश की राष्ट्रपति,
    क्या चंपा का घर में बंद अपमान हो गया है...
    क्या आदमी वाकई इनसान हो गया है...
    आज़मगढ़ में पंचर लगाता है जमाल,
    क्या किस्मत का शाहरुख़ ख़ान हो गया है....
    क्या आदमी वाकई इनसान हो गया है...

    समारोह में किसी का सम्मान हो गया है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
    Replies
    1. इन्हीं सवालों का जवाब तलाशना है।

      Delete
  8. सही कहते है पाप का घड़ा एक न एक दिन जरुर फटता है
    और फट भी रहा है जरुरत है सही बात हर तक पहुंचे .......

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिल्कुल, एक दिन जरूर भरेगा और फटेगा भी..
      आभार

      Delete
  9. अनोखे और रोचक अंदाज़ में सामने ला रहे हैं आप तथ्यों/तर्कों को ...

    ReplyDelete
  10. chaliye kahin to sahi kam hua .nice presentation

    ReplyDelete
  11. chaliye kuchh to sahi kam hua .ummeed to bani ki kuchh sahi ho sakta hai .

    ReplyDelete
  12. पता नहीं क्या हो रहा है।
    मुझे तो कुछ नहीं पता।
    पर लिखने का तरीका जरूर पसंद आया।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको सब कुछ जानने में वक्त लगेगा
      आभार

      Delete
  13. बढ़िया विश्लेषण-
    सुन्दर शैली-
    आभार

    ReplyDelete
  14. क्रिकेट सच में एक धर्म बन गया है
    और धर्म की आड़ में पैसा कमाने का जरिया
    पर गनीमत है कि ये धर्म पुरोहित कम से कम न्यायपालिका से भय तो खाते हैं
    बाकी यदि कहीं कुछ गलत हो रहा हो तो आवाज तो उठनी ही चाहिए

    ReplyDelete
    Replies
    1. हां ये बात तो है,
      पर गलत को गलत कहने की हिम्मत भी होनी चाहिए।
      आभार

      Delete
  15. अब हम क्या कहें हाँ इतना जरुर कहेंगें की सावधान ... महेन्द्र जी राजनीति से जुड़े हर मामले की बखिया उधेड़ने वाले हैं इसलिए जो भी कदम उठाये जरा सोचकर :) आपकी मेहनत काबिले तारीफ है और आपकी पोस्ट से हमें राजनीती में होने वाली हर हलचल की खबर मिलती रहती है शुक्रिया |

    ReplyDelete
    Replies
    1. बस आप सब का स्नेह और शुभकामनाएं मेरे साथ रहें
      इसके अलावा मुझे कुछ नहीं चाहिए।
      आभार

      Delete
  16. कोई दे रहा है ,कोई ले रहा है -
    क्या कर लेगा काज़ी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बात तो आपकी बिल्कुल सही है...
      पर ब्लाग परिवार की गंदगी के बारे में एक बार सजग तो करना ही होगा।
      इसके बाद तो लोगों की मर्जी...
      आभार..

      Delete
  17. ब्लोगिंग में तरह तरह के "लेखक" हैं और उन सबको अपना कार्य, पूरे विश्व में प्रकाशित करने का अधिकार मुफ्त में मिला हुआ है, वे रोज १ से ३ पोस्ट प्रकाशित कर अपने आपको साहित्यकार समझने लगे हैं ! अगर सतीश सक्सेना साहित्यकार बन गए हैं तो आपको क्या तकलीफ है , हाँ आपके द्वारा ऐसे कार्यों का विरोध किया गया, यह सनद जरूर रहेगी ..

    मैं तो रविन्द्र प्रभात को बधाई देता हूँ कि उन्होंने बहुत सारे महान ब्लोगरों को साहित्यकार बना दिया ! ये अंतर्राष्ट्रीय साहित्यकार जीवन भर उन्हें नहीं भुला पायेंगे !

    ReplyDelete
    Replies
    1. हां ये बात तो सही है ....
      मैं कभी किसी अच्छे कार्य का विरोधी ना हूं, ना रहूंगा। मैं गलत परंपरा का विरोधी हूं। कुछ लोग जिस तरह की गंदगी फैला रहे हैं, उस पर मैं अपनी बात कह कर ये स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि उन्हें मेरा समर्थन नहीं है।

      वरना तो जिस तरह से पिछली बार इन सब ने मुझे गाली दी थी, कोई दूसरा आदमी गलत बात का विरोध करने की हिम्मत ही नहीं कर सकता था।


      Delete
  18. बढ़िया विश्लेषण-

    ReplyDelete
  19. मैंने बहुत पहले कहा था कि यह एक सफेदपोश चोरों का अड्डा है जो भोलेभाले(बेवकूफ) लोगों से मोटी कमाई कर ऐश उड़ा रहा है और क्रिकेट का एक अकेला ठेकेदार बनकर देश के उन ज्यादातर होनहार युवाओं का गला घोंट रहा है जो बहुत ही प्रतिभाशाली खिलाडी है लेकिन उनका कसूर सिर्फ इतना है की सुदूर इलाकों में रहते है, आर्थिक रूप से मजबूत नहीं है ! अब इन महाशय को देख लीजिये , इनके पास एक बड़ा व्यवसाय है, किन्तु लोकलाज सब त्यागकर किस कदर क्रिकेट से चिपके रहना चाहते है , आखिर क्यों ? कुछ तो मलाई है उधर !

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैंने बहुत पहले कहा था कि यह एक सफेदपोश चोरों का अड्डा है जो भोलेभाले(बेवकूफ) लोगों से मोटी कमाई कर ऐश उड़ा रहा है ........

      बिल्कुल सहमत हूं। खेल को गोरखधंधा बनाकर रख दिया है।

      Delete
  20. लाजबाव प्रस्तुति।।।

    ReplyDelete
  21. हम भूल गए हैं रख के कहीं …


    http://bulletinofblog.blogspot.in/2013/08/blog-post_10.html

    ReplyDelete

जी, अब बारी है अपनी प्रतिक्रिया देने की। वैसे तो आप खुद इस बात को जानते हैं, लेकिन फिर भी निवेदन करना चाहता हूं कि प्रतिक्रिया संयत और मर्यादित भाषा में हो तो मुझे खुशी होगी।